Tu Mera Misra Hai Lyrics

Tu Mera Misra Hai Lyrics – Bhanu Pandit & Anita Bhatt

Tu Mera Misra Hai Lyrics is the latest hindi lyrics song which is sung by Bhanu Pandit & Anita Bhatt Cast : Jannat Zubair & Mr. Faisu and Lyrics of Tu Mere Misra Hai is given by Bhanu Pandit.

Tu Mera Misra Hai Lyrics in English

Tu Mera Misra Hai Lyrics
SingerBhanu Pandit & Anita Bhatt
MusicBhanu Pandit
Song WriterBhanu Pandit

Koi Noorani
Itra Achcha Jaise
Falak se Utara hai

Jane kyu tu kuch
Is Tarah Mere
Jahan Mein Uttara hai


Ke Pahle tha Nahin
Mera Dil Ye Abhi
Tere Hone se
Itna befikra hai

Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai

Hauli Hauli Lyrics – yotica Tangri



Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai

Kitni bakijagi se
Kitni Sacchai se
Ishq karte ho tum mujhse
Kitni gehrai se

Kitni masumiyat se
Kitni dilchaspi se
Samajhte ho mere jajhbat
Kitni bariki se

Tumse Milna Kabhi
Agar Hota Nahin
Tu Lage Sara Alam
Besubra hai…

Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai

Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai


Jis Tarah Se Giraftari
Li Hai tune Mere Dil Ki
Itni Mithi Saja hai ki
Jamanat bhi nahin Chahta

Hay Gajab Ki Ishq taari
Main pagal Sa Ho Gaya
Ghar Bhi jana hai aur Tujhse
Ijazat bhi nahin Chahta

Hamesha Kyon Mera
Hasra yehin hua
Teri Yaadon Se
Jab Bhi Dil Takrayain

Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai

Ki Tere Bin Dil Ye Mera
Sab Kuch Bhula bisra Hai
Main Jaise Aa Bhi Koi gazal
Aur Tum Mera Mishra hai

Tu Mera Misra Hai Lyrics in Hindi

कोई नूरानी
इतरा अच्छा जैसा
फलक से उतरा है

जाने क्यू तू कुछ
ईस तराह मेरे
जहां में उत्तरा है


के पहले था नहीं
मेरा दिल ये अभी
तेरे होने से
इतना बेफ़िक्रा है

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है

कितनी बकीजागी से
कितनी सचाई से
इश्क करते हो तुम मुझसे
कितनी गहराई से

कितनी मासूमियत से
कितनी दिलचस्पी से
समझते हो मेरे जज्बती
कितनी बारिकी से

तुमसे मिलना कभी
अगर होता नहीं
तू लगे सारा आलम
बसुब्रा है…

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है


जिस तरह से गिरफ्तारी
ली है तुमने मेरे दिल की
इतनी मीठी साजा है कि
जमात भी नहीं चाहता:

हाय गजब की इश्क तारी
मैं पागल सा हो गया
घर भी जाना है और तुझसे
इज्जत भी नहीं चाहता:

हमेशा क्यों मेरा
हसरा येन हुआ
तेरी यादों से
जब भी दिल तकरायें

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है

की तेरे बिन दिल ये मेरा
सब कुछ भुला बिसरा है
मैं जैसे आ भी कोई ग़ज़ल
और तुम मेरा मिश्रा है

Related Posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: